जाने दुनिया मे सबसे ज्यादा वीड(गांजा) कहा फूका जाता है? इंडिया भी शामिल टॉप पर

दिल्ली ने खरपतवार की खपत की सूची में विश्व स्तर पर 3 जी को स्थान दिया है, 2018 में 38.3 टन खरपतवार का उपभोग किया। मुंबई वैश्विक स्तर पर 6 वें स्थान पर नहीं है, जो कि 6 वीं रैंकिंग पर है, 32.4 टन खरपतवार की खपत है।  सूची में उपलब्ध आंकड़ों के साथ 120 शहर शामिल थे।



Source- LOST WITH PURPOSE


यह अध्ययन जर्मनी में स्थित डेटा-संचालित मीडिया अभियान आउटलेट ABCD द्वारा किया गया था, जो भांग को वैध बनाने के लिए जोर लगाना चाहता है।  ABCD भी दुनिया भर के उन स्थानों को खोजने के लिए कैनबिस प्राइस इंडेक्स बनाती है जो कैनबिस वैधीकरण को अपनाने के लिए तैयार हैं।


 इस सूची में न्यूयॉर्क 77.4 टन था, जबकि कराची 42 टन के साथ दूसरे स्थान पर था।  न्यूयॉर्क, लॉस एंजिल्स और शिकागो जैसे अमेरिकी शहरों के अलावा, सूची में उल्लिखित अन्य सभी शहर ऐसे स्थान हैं जहां भांग का सेवन अभी तक वैध नहीं किया गया है, हालांकि टोरंटो ने इसे इस वर्ष ही वैध कर दिया है।



इस सर्वेक्षण ने इन शहरों की औसत कीमत को भी देखा और दोनों भारतीय शहर भांग खरीदने के लिए सबसे सस्ते स्थानों में से एक हैं।  दिल्ली में कीमत 4.38 डॉलर प्रति ग्राम (INR 315) और मुंबई में 4.57 डॉलर प्रति ग्राम (INR 328) थी।  खरपतवार खरीदने के लिए सबसे महंगी जगह टोक्यो है, $ 32.66 प्रति ग्राम (INR 2,348)



अध्ययन ने भारत में खरपतवार को वैध बनाने के निहितार्थ पर भी ध्यान दिया।  दिल्ली 725 करोड़ रुपये जुटाने में सक्षम हो सकती है, उसी दर पर, जिस पर सिगरेट बेची जाती है।  मुंबई के लिए यह आंकड़ा 641 करोड़ रुपये है।  यदि मारिजुआना कर पर औसत अमेरिकी कर की दर लागू होती है, तो दिल्ली 225 करोड़ रुपये और मुंबई 199 करोड़ रुपये जुटाएगा, इस अध्ययन का निष्कर्ष निकाला गया।