क्या यही है परिवर्तन के ढाई साल ? हालत तो देखिए 😵😦😵


लखनऊ : उत्तर प्रदेश सरकार ने 2.5 साल तो पूरे कर लिए है क्या सही मे इन ढाई सालो मे कुछ परिवर्तन आया है ?


एक तरफ सरकार परिवर्तन के 2.5 साल का जशन मना रही है और यह जनता की हालत त्रस्त है।


सरकार ने बिजली ⚡ दरे बढ़ा दी आम आदमी कुछ नही बोला ,पेट्रोल ⛽ के दाम बढ़ा दिए आदमी कुछ नही बोला, रोज़मर्रा की चीज़ों के दाम तक तो ठीक था पर चालान 🚨 के नाम पर आम आदमी को लूटना भी शुरू कर दिया।


सरकार सुविधा के नाम 1/3 तिहाई काम नही करती जनता के लिए , सिवाए जुमले देने के। इतना पैसा सरकार जनता से (कर) के रूप मे वसूल रही है । नाही इसका उपयोग अच्छी सड़के बनाने मे होता है नाही जनता की भलाई के लिए।



यह तसवीर है सहर के जाने माने इलाके इंदिरा नगर तकरोही विवेकानंद कॉलोनी जिसकी तरफ न तो कभी प्रसासन का ध्यान गया नाही पार्षद और नगर आयुक्त का।


यह तस्वीर किसी गाँव कस्बे की नही बल्कि एक विकशित होते सहरी इलाके की है जोकि जाना माना इलाका है।


प्रसासन सड़क बना के तो दे नही सकता उल्टा उसकी खुदाई जरूर कर दी है। यहीं के स्थानवासियो द्वारा ईटो की सहायता रास्ते को दोबारा बनाया जा रहा है।


लोगो का कहना है कई पत्र और शिकायतों के बाद भी सड़को 🛣️ का निर्माण नही हुआ।


जब यह हाल सहरी इलाको का है तो सोच लीजिए गाओं और कस्बो की क्या हालत होगी , सुविधाओ के नाम पर जुमले देने वाली सरकार को क्या ये सब दिखाई नही देता है क्या ?